जुदाई फिल्म की अदाकारा Poonam Dhillon एक्ट्रेस नही डॉक्टर बनने की ख्वाइश रखती थी।

Poonam Dhillon aspired to become a doctor: पूनम ढिल्लो ने अभिनय की दुनिया में खासा नाम और पहचान बनाई है। इन्होंने अपने शानदार अभिनय से दर्शकों के दिलों में लंबे समय तक राज किया।पहली बार इनको हिंदी फिल्म त्रिशूल में काम करने का मौका मिला।

कानपुर से ताल्लुक रखने वाली पूनम का जन्म 8 अप्रैल 1962 में हुआ था। पूनम की लव लाइफ का जिक्र करे तो इन्होंने निर्माता अशोक ठकारिया से साल 1988 में शादी की थी। अशोक ने कई हिंदी फिल्मों का निर्माण किया। वहीं पूनम ने शादी के बाद कम ही फिल्में की

फिल्मों में नाम कमाने के बाद अदाकारा ने साल 1995 में छोटे पर्दे पर भी काम किया। जिनमे ‘ अंदाज ‘ और ‘ किटी पार्टी ‘ जैसे टीवी शो है।यही नहीं सलमान खान के रियलिटी शो बिग बॉस के तीसरे सीजन में पूनम ने बतौर कंटेस्टेंट के रूप में नजर आई थी।

अभिनय की दुनिया में कदम रखने से पहले पूनम पहले डॉक्टर बनने की ख्वाहिश रखती थी।उनकी शुरुआती पढ़ाई चंडीगढ़ में पूरी हुई। साल 1977 में अखिल भारतीय सौंदर्य प्रतियोगिता में शामिल होने का इनको सुनहरा अवसर मिला इसमें ये नंबर वन स्थान पर रही।

इसी बीच पूनम के सौंदर्य से खासा प्रभावित होकर निर्माता निर्देशक यश चोपड़ा ने अपनी फिल्म त्रिशूल में इनको काम करने का ऑफर किया।इस बीच अदाकारा ने उनके इस खास ऑफर को मना कर दिया। हालांकि बाद में पंजाब कार्यालय में काम कर रही एक फैमिली फ्रेंड गार्गी ने उन्हें बाकायदा समझाया कि फिल्मों में अभिनय करना बिल्कुल भी गलत काम नहीं है। लिहाजा पूनम के परिवार वालो ने उनके सामने एक खास शर्त पर फिल्म काम करने का परमिशन दी।कि वो स्कूल की छुट्टियों के समय ही फिल्मों में एक्टिंग करेंगी।

इसी बीच पूनम के सौंदर्य से खासा प्रभावित होकर निर्माता निर्देशक यश चोपड़ा ने अपनी फिल्म त्रिशूल में इनको काम करने का ऑफर किया।इस बीच अदाकारा ने उनके इस खास ऑफर को मना कर दिया। हालांकि बाद में पंजाब कार्यालय में काम कर रही एक फैमिली फ्रेंड गार्गी ने उन्हें बाकायदा समझाया कि फिल्मों में अभिनय करना बिल्कुल भी गलत काम नहीं है। लिहाजा पूनम के परिवार वालो ने उनके सामने एक खास शर्त पर फिल्म काम करने का परमिशन दी।कि वो स्कूल की छुट्टियों के समय ही फिल्मों में एक्टिंग करेंगी।

पूनम गिनी चुनी फिल्मों का जिक्र करे तो इसमें ‘ त्रिशूल ‘ फिल्म भी शामिल है। इस फिल्म को बड़े पर्दे पर दर्शकों ने खासा पसंद किया था। वही पूनम को इस फिल्म के बाद लोग पहचानने लगे थे। इस फिल्म के बाद उनके पास तमाम फिल्मी ऑफर आए।

हालांकि एक्ट्रेस ने सभी को ठुकरा दिया क्योंकि उनकी अभिरुचि फिल्मों में जरा भी नहीं थी।इस बीच उन्होंने मेडिकल कॉलेज में एडमिशन लेना चाहा लेकिन उनके भाई ने इसे लेकर उनके उत्साह खत्म कर दिया। फिर क्या था पूनम की ख्वाहिश भारतीय विदेश सेवा में काम करने की जागृत हो गई और वो पूरे जुनून से परीक्षा में की तैयारी में जुट गई।

यश चोपड़ा के बैनर में बन रही फिल्म नूरी में पूनम को साल 1979 में काम करने का फिल्मी ऑफर हुआ। इस फिल्म से पूनम का फिल्मी करियर मानो चमक उठा फिल्म के गाने और कहानी दर्शकों को खासा पसंद आई थी। फिल्म में मुख्य अभिनेता के तौर पर फारूक शेख नजर आए थे।

पूनम ने ‘ नूरी’ की सफलता को देखते हुए अपना मन बदल लिया और वो पूरी तरह से अभिनय की दुनिया में सक्रिय हो गई।इसके बाद वो एक के बाद एक कई बड़ी फिल्मों में नजर आए।जिनमें ‘ रेड रोज ‘,’ निशान’ जैसी फिल्में थे।इसी बीच इनकी फिल्म ‘बीवी ओ बीवी’ बड़े पर्दे पर कुछ खास कमाल नहीं कर पाई।

Leave a Comment